Tehzeeb Hafi Shayari and Ghazal

Tahezeeb hafi ka janm 1988 mai jam sere sindh, Pakistan mai hua. Urdu ke mahefil ki san pesh hai Tehzeeb hafi Shayari and ghazal hindi mai.

Tehzeeb Hafi Shayari and Ghazal

Tehzeeb Hafi Shayari on Love


“Tumhen husn par bada dastaras hai, mohabbat vahabbat bada jaanate ho
to phir yah batao ki tum usakee aankhon ke baare mein kya jaanate.

ye jugaraaphiya phalasapha saayakolojee sains riyaajee vagaira,
ye sab jaanana bhi ahem hai, magar usake ghar ka pata jaanate ho.”


“usee jagah par, jahaan kaee raaste milenge,
palat ke aae to sabase pahale tujhe milenge

agar kabhee tere naam par jang ho gaee to,
ham aise bujadil bhee pahalee saaph mein khada milenge.”






“na jaane kab usakee aankhen chhalakegee mere gam mein,
na jaane kis din mujhe yah bartan bhare milege.

tujhe yah sadaken mere taavasu se jaanatee hain,
tumhe hamesha yah sab ishaare khule mile.”


tujhe bhi saath rakhata aur use bhi apana deevaana bana leta
agar mai chaahata toh dil mai koi chor daravaaja banaaleta,

mai apane khvaab pure karake khush hun par yah pachhataava nahi jata
Ke mustakabil banaane se to achchha tha tujhe apana bana leta.


baad mein mujhase na kahana ghar palatana theek hai
vaise sunane mein aaya hai ke raasta theek hai

jahen tak tasleem kar leta hai usakee barataree
aankh tak tasdee kar detee hai banda theek hai


Tehzeeb Hafi Sad Shayari

maheeno baad ham daphtar aa rahe hain, ek sadame se baahar aa rahe hain
teri baahon se dil ukata gaya hai, ab is jhoole mein chakkar aa rahe hain.

kahan soya hai chaukeedaar mera, ye kaise log andar aa rahe hain
samandar kar chuka tasleem hamako, khajaane khud hi Upar aa rahe hain.


ruk gaya hai vo ye chal raha hai, hamako sab kuchh paat chal rah hai
mujase kal vakt puchha kisee ne, hamane kahe deeya ke boora chal raha hai,

mera likha hua rahega tha, uska kaata hua chal raha hai
usane shaadi bhee ki hai, aur batao gaav main kya chal raha hai?


Tehzeeb Hafi
Galat nikale sab andaaje hamaare, ke din aae nahin achchhe hamaare.

Saphar se baaj rahane ko kaha hai, kisee ne kholakar tasamen hamaare

Agar ham par yakeen aata nahin to, kaheen lagava lo angoothe hamaare.


bichhad kar usaka dil lag bhee gaya to kya lagega
vah thak jaega aur mere gale se aa lagega.

main mushkil mein tumhare kaam aaoon ya na aaoon
mujhe aavaaj de lena tumhen achchha lagega.

main jis koshish se usako bhool jaane mein laga hoon
jyaada bhee agar lag jae to haphata lagega.


Zakir Khan Quotes


kis se khabar hai ki umr bas is par gaur karane mein kat rahee hai
ki yah udaasi hamare jismo use kis khushi mein lipat rahi hai

ham usake hokar bhee usako chhoone se dar rahe hain
hamaare hisse ki aag aur unhen bat rahee hai


khaakh hee khaakh thee aur khaakh bhee kya kuchh nahin tha
mai jab aaya to mere ghar kee jagah kuchh nahin tha

kya karoon tujhase khayanat nahi kar sakata main
varana uski aankh mein mere lie kya kuchh nahin tha.


Tehzeeb Hafi Ghazal in Hindi

बिछड़कर, उसका दिल लग गया तो सो क्या लागेगा,

वो थस जागे, और मेरे गाल आ लागेगा,

मैं मुशकील मे तुम्हार काम आऊं, या ना आऊं

मुझे आवज़ दे लेना, तुम्हे अच्छा लागेगा,

मेरे हाथ से लग कर, फूल मिट्ठी हो रहे है

मेरे अँखों से दरिया सुखना, सेहरा लागेगा

मैं जीश कोशीश से उसको भूल जाने मैं लगा हूँ

ज़्यादा भी अगर लग गया, तो हफ्ता लागेगा …






थोडा लेखा, और ज़्यादा छोड़ दीया

आने वालो के लिये, रस्ता छोड़ दिया

तुम क्या जानो, उस दरिया पर क्या गुजरी

तमने तोह बास पानी भरना छोड़ दिया

लड़कियां इश्क मे कीतनी पागल होती है

फोन बाजा, और चूल्हा जलता छोड़ दिया

रोज एक पत्ता मुझमे आ गिरता है

जबसे मैने जंगल जाना चोड दिया

बस कानो पर हाथ रखे थे थोडी देर

और फिर उस आवाज़ ने पीछा छोड़ दिए


Mirza Ghalib Shayaris


अश्क़ जाया हो रहे थे, देख कर रोता न था

जिस जगह बनता था रोना, वहा रोता न था

सिर्फ तेरी चुपपी ने मेरा गाला गीला कर दिए,

मैं तो वो हूँ, जो किसी की मौत पर रोता न था

मुझ पर कितने एहसान है गुज़रे, पर उन आँखों को क्या

मेरा दुःख ये है, के मेरा हमसफ़र रोता न था

मैंने उसके वस्ल में भी हिज्र कटा है कहीं,

वो मेरे कंधे पे रख लेता था सर, रोता न था

प्यार तो पहले भी उससे था, मगर इतना नहीं

तब में उसको छू तो लेता था, मगर रोता न था

गिरियो ज़ारी को भी एक खास मौसम चाहिए,

मेरी आँखें देख लो, मै वक़्त पर रोता न था


उससे भी साथ रखता, और तुझे भी अपना बना लेता

अगर मैं चाहता, तो दिल में कोई चोर दरवाज़ा बना लेता

ख्वाब पुरे कर के खुश हूँ, पर ये पछतावा नहीं जाता

के मुस्तक़बिल बनाने से तो अच्छा था, तुझे अपना बना लेता

अकेला आदमी हूँ, और अचानक आये हो जो कुछ था हाज़िर है,

और तुम आने से, पहले बता देते, तो कुछ अच्छा बना लेता






किसे खबर है के उम्र, बस इस्पे गौर करने में काट रही है

के ये उदासी हमारे जिस्मो से, किस ख़ुशी में लिपट रही है

अजीब दुःख है, हम उसके होकर भी उसको छुने से डर रहे हैं

अजीब दुःख है, हमारे हिस्से की आग औरों में बात रही है

मुझ जैसे पेड़ों के, सूखने और सब्ज़ होने से क्या किसी को

ये बेल शायद किसी मुसीबत में है, जो मुझसे लिपट रही है

मैं उसको हर रोज़ बस यही एक झूट सुनने को फ़ोन करता

सुनो, यहाँ कोई मसला है, तुम्हारी आवाज़ काट रही है


Top 10 Motivational Speakers and Networth in the World


Tehzeeb Hafi Shayari in Hindi


इस तालुक को कोई जो कहै,
पर मेरे लिए रास्ता देखते रहने के सिवा कुछ नहीं था

अब वह मेरे ही किसी दोस्त की मनहुबा है,
मैं पलट जाता मगर पीछे बचा कुछ नहीं था


तेरे होते हुए मोमबत्ती बुझाई किसी और ने क्या खुशी
रह गई थी, तेरे जन्मदिन कि मैं केक क्यों काटता.

कोई भी तो नहीं जो मेरे भूखे रहने पर नाराज हो
जेल में तेरी तस्वीर होती तो हंसकर सजा काटता.


उसकी तस्वीरें हैं दिल्कास तो होंगी
जैसी दीवारें हैं वैसा साया है

एक मैं हूं जो तेरे कत्ल की कोशिश में था
एक तू है जो जेल में खाना लाया


आईने अखं मै चुभते थे, बिस्तर से बदन कतराता था
एक याद बसर करती थी मुझे मैं सांस नहीं ले पाता था


Thanks for Reading Tehzeeb Hafi Shayari. Please comment below which one you like more.

This Post Has 2 Comments

Leave a Reply