Khushiyan Aur Gham

एक बार एक Seminar का आयोजन किया गया  और उस सेमिनार मे लगभग तीस लोगो ने हिस्सा लिया । Seminar के स्पीकर ने सभी लोगो एक Game खेलने को कहा और, सभी लोगो को एक एक Balloon दिया गया , और सभी से कहा के  Balloon पर अपना अपना अपना नाम लिख दे ।

 

सभी लोगो ने  Balloon पर अपना अपना नाम लिख दिया । सारा Balloon दुसरे कमरे मे रखवा दिया गया । अब सभी लोगो से स्पीकर ने कहा “आप सब को सात मिनट का समय दिया जाता है, और इन सात मिनटो मे सभी लोग अपने अपने नाम के Balloon दुसरे कमरे से निकल कर लाना है ।“




सभी लोग दुसरे कमरे मे गये और सभी लोगो ने अपने अपने नाम के Balloon खोजने लगे , एक दुसरे को धक्का देने लगे और दुसरे के नाम का Balloon मिलता तो उसे दूसरी तरफ फेक देते | ऐसा करने मे जादातर Balloon फुट गये क्योकि हर किसी को अपने नाम वाले Balloon चाहिए थे |

अब पूरे दस मिनट गुजर गए लेकिन जादा तर लोगो को अपने नाम के Balloon नहीं मिले , अब जिसको अपने नाम का Balloon नहीं मिला था वह मायूस हो गया ।



सभी लोगो को स्पीकर ने एक बार फिर से Try करने को कहा और सभी लोगो को फिर से एक-एक Balloon दे दिया  , और सभी लोगो को Balloon पर अपना अपना नाम लिखने को कहा , और फिर से सरे Balloon दुसरे कमरे मे रखवा दिये गया ।

 

लेकिन इस बार सभी लोगो को कहा गया के अगर आप को दुसरे के नाम के Balloon मिले तो उसको उसके नाम वाले आदमी को Balloon दे देना । इस बार लोगो को जैसा बताया गया था ठीक वैसा ही किया ।

 

इस बार दुसरे के नाम का Balloon फेकने के बजाये उस Balloon को उसके नाम वाले आदमी तक पहुचाया गया और इस बार बिना एक दुआरे को धक्का दिए सिर्फ पाच मिनट मे ही सभी को अपने अपने नाम वाले Balloon मिल गए । सभी लोग खुसी खुसी वापस उसी कमरे मे गये ।

स्पीकर ने सभी लोगो से पूछा “इस बार सभी को अपने नाम वाले Balloon मिल गये ?”

सभी ने एक साथ बड़ी खुसी से कहा ” हा , हा ”




स्पीकर ने सभी लोगो से फिर पूछा “आप को पहेली बार मे गुबारे क्यों नहीं मिले ?” सभी सोचने लगे लेकिन कोई कुछ नही बोल रहा था ।

स्पीकर ने सबको समझाते हुये कहा” पहेली बार आप को सिर्फ आपने नाम वाले Ballon खोज रहेते थे इसी लिए सब एक दुसरे को धक्का भी दे रहे थे और दुआरे के नाम वाले गुबारे दूसरी तरफ फेक रहे थे ।

Moral : – इसी तरह दोस्तो हमे अपनी खुशी के साथ साथ दूसरो की खुशी का भी ख्याल रखना चहिये । आज हम जादातर अपनी खुशी चाहते है, हमे सिर्फ अपनि खुसी दिखाई देती है , इसी लिए दोस्तो , दूसरो को खुशी देने से आप को सच्ची वाली खुशी मिलेगी, दुसरो की मद्दत करे उपर वाला आपकी मद्दत करेगा ।

दोस्तो, कहानी पसन्द आये तो, कहानी को लाइक और मेरे इस Blog my Motivational Support को   शेयर , कमेंट करना न भूले

इस कहानी का Animated Video देखने के लिए निचे Image पर Click करे….

Khushiyan Aur Gham पड़ने के लिए थैंक्यू.

One Comment on “Khushiyan Aur Gham”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *